Gam Shayari Hindi

Gam Shayari Hindi
Baato Baato Mai Gam Butt Gaye,Dil Ke Konno Mai Sanam Utar Gaye,Janne Kab Aap Aur Mai "Hum" Bun Gaye,

बातों बातों में गम बट गए,दिल के कोनो में सनम उतर गए,
जाने कब आप ओर मै "हम" बन गए.!


Na Khushi Ki Talash Hai Na Gam-E-Nijat Ki Arzoo,Mai Khud Se Naraj Hun... Teri Berukhi Ke Baad.

ना ख़ुशी की तलाश है ना गम-ए-निजात की आरज़ू,मैं खुद से नाराज़ हूँ... तेरी बेरुखी के बाद।
Gam Shayari 

Muskurate Palko Pe Sanam Chale Aate Hein,Aap Kya Jaano Kahan Se Hamare Ghum Aate Hain,Aaj Bhi Us Mod Par Khade Hain,JahaKisi Ne Kaha Tha Ke Theron Hum Abhi Aate Hain.


मुस्कुराते पलको पे सनम चले आते हैं,आप क्या जानो कहाँ से हमारे गम आते हैं,आज भी उस मोड़ पर खड़े हैं,जहाँ,किसी ने कहा था कि ठहरो हम अभी आते है।

Apni Tabahiyon Ka Mujhe Gam To Hai Magar,Tum Ne Kisi Ke Saath Mohabbat Nibha To Di.

अपनी तबाहियों का मुझे गम तो है मगर,तुम ने किसी के साथ मोहब्बत निभा तो दी।

Maut-o-Hasti Ki KashmKash Me Kati Tamaam Umr,Gam Ne Jeene Na Diya Shauq Ne Marne Na Diya.

मौत-ओ-हस्ती की कश्मकश में कटी तमाम उम्र,ग़म ने जीने न दिया शौक़ ने मरने न दिया।
Gam Shayari in Hindi

Gam-e-Duniya Me Gam-e-Yaar Bhi Shamil Kar Lo,Nashaa Barhta Hai Sharabein Jo Sharabon Se Mile.


गम-ए-दुनिया में गम-ए-यार भी शामिल कर लो,नशा भरता है शराबें जो शराबों से मिले।

Insaan Agr Mohabbat Me Pade To Gam Me Pad Hi Jata Hai,Kyuki Mohabbat Kisi Ko Chahe Jitna Karo, Kam Pad Hi Jata Hai.

इंसान अगर मोहब्बत में पड़े तो ग़म में पड़ ही जाता है,क्योंकि मोहब्बत किसी को चाहे जितना भी करो, थोड़ा सा तो कम पड़ ही जाता है।
Gam Bhari Shayari Hindi Mai

Humne Socha Ke Do Char Din Ki Baat Hogi Lekin,Tere Gam Se To Umr Bhar Ka Rishta Nikal Aaya.

हमने सोचा के दो चार दिन की बात होगी लेकिन,तेरे ग़म से तो उम्र भर का रिस्ता निकल आया।
Gam Shayari Hindi Me

Ab To Meri Aankh Me Ek Ashq Bhi Nahi,Pehle Ki Baat Aur Thi Gam Tha Naya Naya.


अब तो मेरी आँख में एक अश्क भी नहीं,पहले की बात और थी गम था नया नया।

Najar Naaj Najron Me Jee Nahi Lagta,Fiza Gayi To Baharo Me Jee Nahi Lagta,Na Poochh Mujhse Tere Gam Me Kya Gujarti Hai,Yahi Kahunga Hazaro Me Jee Nahi Lagta.

नज़र नवाज़ नज़रों में ज़ी नहीं लगता,फ़िज़ा गई तो बहारों में ज़ी नहीं लगता,ना पूछ मुझसे तेरे ग़म में क्या गुजरती है,यही कहूंगा हज़ारों में ज़ी नहीं लगता।

Gam To Hai Har Ek KoMagar Hausle Hain Juda Juda,Koi Toot Kar Bikhar GayaKoi Muskura Ke Chal Diya.

गम तो है हर एक कोमगर हौसले हैं जुदा जुदा,कोई टूट कर बिखर गयाकोई मुस्कुरा के चल दिया।
Gam Bhari Shayari in Hindi

Roothi Jo Zindagi To Mana Lenge Hum,Mile Jo Gam Wo Sah Lenge Hum,Bas Aap Rahna Sath Humare,To Nikalte Huye Aansuon Me BhiMuskura Lenge Hum.


रूठी जो ज़िंदगी तो मना लेंगे हम,मिले जो ग़म वो सह लेंगे हम,बस आप रहना हमेशा साथ हमारे,तो निकलते हुए आंसूओं में भी,मुस्कुरा लेंगे हम।

Gham Dekar Tumne Khata Ki,Eh Sanam Tum Ye Na Samjhna,Tera Diya Hua Gham Bhi,Hamein Dava Hi Lagti Hai.

ग़म देकर तुमने खता की,ऐ सनम तुम ये न समझना,तेरा दिया हुआ ग़म भी,हमें दवा ही लगता है।
Gam Ki Shayari Hindi Mai

Gam Yeh Nahi Ke Qasam Apni Bhulayi Tumne,Gam To Ye Hai Ke Raqeebon Se Nibhayi Tumne,Koi Ranjish Thi Agar Tum Ko To MujhSe Kehte,Baat Aapas Ki Thi Kyun Sab Ko Batayi Tumne.


गम यह नहीं के क़सम अपनी भुलाई तुमने,ग़म तो ये है के रकीबों से निभाई तुमने,कोई रंजिश थी अगर तुम को तो मुझसे कहते,बात आपस की थी क्यों सबको बतायी तुमने।

Agar Wo Puchh Le Humse Kaho Kis Baat Ka Gam Hai?To Fir Kis Baat Ka Gam Hai Agar Wo Puchh Le Humse.

अगर वो पूछ ले हमसे कहो किस बात का गम है?तो फिर किस बात का गम है अगर वो पूछ ले हमसे।

Nikal Aate Hain Aansu Hanste Hanste,Yeh Kis Gam Ki Kasak Hai Har Khushi Mein.

निकल आते हैं आँसू हँसते हँसते,ये किस ग़म की कशक है हर खुशी में।

Jabt-e-Gam Koyi Aasaan Kaam Nahi Faraaz,Aag Hote Hain Wo Aansu Jo Piye Jaate Hain.

जब्त-ए-गम कोई आसमान काम नहीं फ़राज़,आग होते है वो आँसू जो पिये जाते हैं।

Chaha Tha Muqammal Ho Mere Gam Ki Kahani,Main Likh Na Saka Kuchh Bhi Tere Naam Se Aage.

चाहा था मुक़म्मल हो मेरे गम की कहानी,मैं लिख न सका कुछ भी तेरे नाम से आगे।

Duniya Bhi Mili Gam-e-Duniya Bhi Mili Hai,Wo Kyun Nahi Milta Jise Manga Tha Khuda Se.

दुनिया भी मिली गम-ए-दुनिया भी नीली है,वो क्यूँ नहीं मिलता जिसे माँगा था खुदा से।

Raat Bhar Mujhko Gam-e-Yaar Ne Sone Na Diya,Subah Ko Khauf-e-Shab-e-Taar Ne Sone Na Diya.Shama Ki Tarah Meri Raat Kati Suli Par,Chain Se Yaad-e-Kad-e-Yaar Ne Sone Na Diya.

रात भर मुझको गम-ए-यार ने सोने न दिया,सुबह को खौफ-ए-शब-ए-तार ने सोने न दिया,शमा की तरफ मेरी रात कटी सूली पर,चैन से याद-ए-कद -ए-यार ने सोने न दिया।
Gam Shayari Hindi 140

Mere Gam Ne Hosh Unke Bhi Kho Diye,Wo Samjhate Samjhate Khud Hi Ro Diye.


मेरे गम ने होश उनके भी खो दिए,वो समझाते समझाते खुद ही रो दिए।

Ye Gam Ke Din Bhi Gujar Jayenge Yun Hi,Jaise Wo Rahaton Ke Zamane Gujar Gaye.

ये गम के दिन भी गुजर जायेंगे यूँ ही,जैसे वो राहतों के ज़माने गुजर गए।

Tere Har Gam Ko Rooh Me Utar Lun,Zindagi Apni Teri Chahat Me Sanwar Lun,Mulakaat Ho Tujhse Kuch Is Kadar Meri,Saari Umr Bas Ek Mulakaat Me Gujar Lun.

तेरे हर ग़म को अपनी रूह में उतार लूँ,ज़िन्दगी अपनी तेरी चाहत में संवार लूँ,मुलाक़ात हो तुझसे कुछ इस तरह मेरी,सारी उम्र बस एक मुलाक़ात में गुज़ार लूँ।

Wo Saath Thi To Maano Jannat Thi Zindagi,Ab To Har Saans Zinda Rehne Ki Wajah Puchhti Hai.

वो साथ थी तो मानो जन्नत थी ज़िन्दगी,अब तो हर सांस जिंदा रहने की वजह पूछती है।

Dono Jahan Teri Mohabbat Me Haar Ke,Woh Jaa Raha Hai Koi Shab-e-Gam Gujaar Ke.

दोनों जहाँ तेरी मोहब्बत में हार के,वो जा रहा है कोई शब्-ए-गम गुजर के।

Ilaahi Unke Hisse Ka Gam BhiMujhko Ataa Kar De,Ke Unki Masoom Aankhon MeinNami Dekhi Nahi Jati.

इलाही उनके हिस्से का गम भीमुझको अता कर दे,के उनकी मासूम आँखों मेंनमी देखी नहीं जाती।

Iss Shaher Mein Hum Jaisa Saudagar Kahah Milega Yaaron,Hum Gam Bhi Khareed Lete Hai Kisi Ki Khushi Ke Liye.

इस शहर में हम जैसा सौदागर कहाँ मिलेगा यारो,हम गम भी खरीद लेते हैं किसी की खुशी के लिए।

www.meridileshayari.in