Mere Jazbaat Shayari

Mere Jazbaat Shayari
www.meridileshayari.in
Mere Jazbaat Shayari,Jazbaat Shayari in Hindi,Jazbaat Shayari ,Jazbaat Shayari in 2 Lines

 बस दिल के जज़्बातों को लफ़्ज़ों में बयान कर दो,
जो छुपे हुए है राज़ उन्हें बयान कर दो.

Buss Dil Ke Jazbaato Ko Lafazo Mai Bayan Kar Do,
Jo Chuppe Huye Hai Raaj Unhe Bayan Kar Do,

कुछ उम्दा किस्म के जज़्बात हैं हमारे,
कभी दिल से समझने की तकलुफ़्फ़् तो कीजिए।

Kuch Umda Kism Ke Jazbaat Hain Humare,
Kabhi Dil Se Samajhne Ki Takalluf To Kijiye.
Jazbaat Shayari in Hindi

दिखावे की मोहब्बत तो जमाने को हैं हमसे,पर
ये दिल तो वहाँ बिकेगा जहाँ ज़ज्बातो की कदर होगी।

Dikhabe Ki Mohabbat To Jamane Ko Hai Hamse,Par
Ye Dil To Bahan Bikega Jahan Jazbaton Ki Kadar Hogi.

दिल -ए -ज़ज़्बात किसी पर, ज़ाहिर मत कर,
अपने आपको इश्क़ में, इतना माहिर मत कर।

Dil-E-Jazbaat Kisi Par Jahir Mat Kar,
Apne Aapko Ishq Me, Itna Mahir Mat Kar.
Jazbaat Shayari Image

दिल से मिले दिल तो सजा देते है लोग,
प्यार के जजबातो को डुबा देते है लोग,
दो इंसानों को मिलते कैसे देख सकते है लोग,
जब साथ बैठे दो परिन्दो को भी उड़ा देते है लोग।

Dil Se Mile Dil To Saja Dete Hain Log,
Pyar Ke Jazbaton Ko Duba Dete Hain Log,
Do Insano Ko Milte Kaise Dekh Sakte Hain Log,
Jab Sath Baithe Do Parindon Ko Bhi Uda Dete Hain Log.

इतना आसान नही जीवन का किरदार निभा पाना,
इंसान को बिखरना पड़ता है रिश्तो को समेटने के लिए।
बात तो सिर्फ जज़्बातों की है वरना,
मोहब्बत तो सात फेरों के बाद भी नहीं होती।

Itna Aasan Nahin Jeevan Ka Kirdar Nibha Pana,
Insaan Ko Bikharna Padta Hai Risto Ko Sametne Ke Liye,
Baat Sirf Jazbaton Ki Hai Varna,
Mohabbat To Saat Fhero Ke Baad Bhi Nahin Hoti.
Jazbaat Shayari in 2 Lines

कई बार हम जज्बातों में आके कुछ कह तो देते है,
पर फिर ख्याल आता है ना कहते तो अच्छा था।

Kai Bar Ham Jajbaton Me Aa Ke Kuch Kah To Dete Hain,
Par Fir Khayal Aata Hai Na Kahte To Accha Tha.

मेरे जज़्बात से वाकिफ है मेरा क़लम फ़राज़,
मैं प्यार लिखूं तो तेरा नाम लिख जाता है।

Mere Jazbaat Se Waqif Hai Mera Qalam Faraz,
Main Pyaar Likhoon To Tera Naam Likh Jata Hai.
Jazbaat Shayari in Hindi Images

हर जज्बात को जुबान नहीं मिलती,
हर आरजू को दुआ नहीं मिलती,
मुस्कान बनाये रखो तो साथ है दुनिया,
वर्ना आंसुओ को भी आंखो मे भी पनाह नहीं मिलती

Har Jazbaat Ko Jubaan Nahi Milti,
Har Aarzoo Ko Duaa Nahi Milti,
Muskaan Anaye Rakho To Sath Hai Duniya,
Warna Aansuon Ko Bhi Aankhon Me Bhi Panah Nahi Milti.

वो समझें या ना समझें मेरे जज्बात को,
मुझे तो मानना पड़ेगा उनकी हर बात को,
हम तो चले जायेंगे इस दुनिया से,
मगर आंसू बहायेंगे वो हर रात को।

Wo Samjhen Ya Na Samjhen Mere Jazbaat Ko,
Mujhe To Manna Padega Unki Har Baat Ko,
Ham To Chale Jayenge Is Duniya Se,
Magar Aansu Bahayenge Wo Har Raat Ko.
Jazbaat Ki Shayari 

अल्फ़ाज़ की शकल में एह्सास लिखा जाता है,
यहां पर पानी को भी प्यास लिखा जाता है,
रे जज़्बात से वाकिफ है मेरी कलम भी,
प्यार लिखूं तो तेरा नाम लिखा जाता है।

Alfaz Ki Shaqal Me Ehsaas Likha Jata Hai,
Yeha Par Paani Ko Bhi Pyas Likha Jata Hai,
Mere Jazbat Se Waqif Hai Meri Kalam Bhi,
Pyar Likhun To Tera Naam Likha Jata Hai.

पत्थर की दुनिया जज़्बात नहीं समझती,
दिल में क्या है वो बात नहीं समझती,
तनहा तो चाँद भी सितारों के भीच में है,
पर चाँद का दर्द वो रात नहीं समझती।

Patthar Ki Duniya Jazbaat Nahi Samjhati,
Dil Me Kya Hai Wo Baat Nahi Samajhati,
Tanha To Chaand Bhi Sitaaron Ke Bheech Me Hai,
Par Chaand Ka Dard Wo Raat Nahi Samjhati.
Shayari On Jazbaat 

झुकी हुई पलकों से जिनका दीदार किया,
सब कुछ भुला के जिनका इंतज़ार किया,
वो जान ही न पाये जज़्बात मेरे,
जिन्हें दुनिया से बढ़कर मैंने प्यार किया।

Jhuki Huyi Palkon Se Jinka Deedar Kiya,
Sab Kuchh Bhula Ke Jinka Intezar Kiya,
Wo Jaan Hi Na Paaye Jazbat Mere,
Jinhein Duniya Se Barhkar Maine Pyar Kiya.
www.meridileshayari.in

Mere Jazbaat Shayari,Jazbaat Shayari in Hindi,Jazbaat Shayari ,Jazbaat Shayari in 2 Lines,Jazbaat Shayari in Hindi Images,Jazbaat Ki Shayari,Shayari On Jazbaat 

.
Mere Jazbaat Shayari Mere Jazbaat Shayari Reviewed by samajayakya.co.in on August 08, 2019 Rating: 5
Powered by Blogger.