Zakhmi Dil Shayari

Zakhmi Dil Shayari
www.meridileshayari.in
Zakhmi Dil Shayari
Zakhmi Dil Shayari
जख़्म इतना गहरा हैं इज़हार क्या करें।
हम ख़ुद निशां बन गये ओरो का क्या करें।
मर गए हम मगर खुली रही आँखे हमारी।
क्योंकि हमारी आँखों को उनका इंतज़ार हैं।
Zakham itna gehra hai intzaar kya kare.
Hum khud nishah bann gaye auro ka kya kare.
Mar gaye hum magar khuli rahi ankhe hamari.
Kyuki hamari ankho ko  unka intzaar hai.

हाथ ज़ख़्मी हुए तो कुछ अपनी ही खता थी..
लकीरों को मिटाना चाहा किसी को पाने की खातिर .
Hath zakhmi huye toe kuch apni hy khatah thi..
Lakeero ko mitana chaha kisi ko panne ki khatir.

नमक तुम हाथ में लेकर, सितमगर सोचते क्या हो,,
हजारों जख्म है दिल पर, जहाँ चाहो छिड़क डालो.
Namak tum hath mai lekar, sitmgar sochte kya ho,
Hazaro zakham hai dil par, yaha chaho shidak dalo.
www.meridileshayari.in