Dard ki Dastan Hindi Shayari

Dard ki Dastan Hindi Shayari

Dard ki Dastan Hindi Shayari
Dard ki Dastan Hindi Shayari
   दर्द की दास्ताँ अभी बाकी है,
महोबत का इम्तेहान अभी बाकी है,
दिल करे तो फिर से वफ़ा करने आ जाना,
दिल ही तो टुटा है, जान अभी बाकी ह.

Dard ki dastan abhi baki hai,
Mahobat ka Imteehan abhi baki hai
Dil kare toe fir se baffa karne aa jana .
Dil hy tutta hai, jaan abhi baki hai.

 दर्द का साज़ दे रहा हूँ तुम्हे,
दिल का हर राज़ दे रहा हूँ ‍‌तुम्हे
ये गज़ल-गीत सब बहाने हैं,
मैं तो आवाज़ दे रहा हूँ ‍‌तुम्हे !

Dard ka saaj de raha hu tumhe,
Dil ka har raaj de raha hu tumhe,
Yeh gajal - gheet sub bahane hai.
Main toe avaaj de raha hu tumhe.

ना किया कर अपने दर्द-ए-दिल को शायरी में बयां.
लोग और टूट जाते हैं…हर लफ़्ज को अपनी दांस्तान समझकर..।

Nah kiya kar apne dard -e-dil ko bayaan..
Log aur toot jatte hai...har laffaj ko apni dastaan samj kar.

दर्द अब इतना की संभलता नही है, 
तेरा दिल मेरे दिल से मिलता नही है
अब और किस तरह पुकारूँ मैं तुम्हे, 
तेरा दिल तो मेरे दिल की सुनता भी नही है.

Dard abb Itna ki sambhalta nahi hai,
Tera dil mere dil se milta nahi hai.
Abb aur kis tarha pukaroo main tumhe ,
Tera dil toe mere dil ki sunta bhee nahi hai.

www.meridileshayari.in