Samajhne Ki Shayari

Samajhne Ki Shayari:- Pyaar or dosti mei bohot si aisi vi baate ho jati hai jo unko samjhne ki jaroorat padti hai.
Samajhne Ki Shayari
samajhne ki shayari, samjhne wali shayari, samjhne ki shayari, समझने वाली शायरी, galat samjhne wali shayari, samajhne wali shayari, samaj shayari
Samajhne Ki Shayari
हम मतलबी नहीं की चाहने वालो को धोखा दे,बस हमें समझना हर किसी की बसकी बात नही........!!!
क्यों गरीब समझते हैं हमें ये जहां वाले,हजारों दर्द की दौलत से मालामाल हैं हम…...!!!
ये वक़्त बेवक़्त मेरे ख्यालों में आने की आदत छोड़ दो तुम,कसूर तुम्हारा होता है और लोग मुझे आवारा समझते हैं....
इक उम्र गुज़ार दी हमने, रिश्तों का मतलब समझने में,लोग मसरूफ हैं…..मतलब के रिश्ते बनाने में.......!!!
Kosish Bahut Ki Dil Ko Samjhne Ki,Aankho Ko Kasam Di So Jane Ki,Bahut Samjhaya Phir Bhi Aankhe Nahi Soyi,Soyi Tab Jab Maine Baat Ki Aapke Khawabo Me Aane Ki.

You Might Also Like

0 Comments