Desh Bhakti Shayari

We have brought for you the best desh bhakti Shayari and deshbhakti shayariyan. we have a good collection of deshbhakti shayari and desh bhakti shayari in hindi. Hope you will like our shayaris on desh bhakti shayari 2020 and desh bhakti shayari hindi. Subscribe our website with email for desh bhakti shayari image. 
Desh Bhakti Shayari
Desh Bhakti Shayari,best desh bhakti shayari, deshbhakti shayariyan, deshbhakti shayari, desh bhakti shayari in hindi, desh bhakti shayari 2020, desh bhakti shayari hindi, desh bhakti shayari image.
Desh Bhakti Shayari
Aao Desh Ka Sammaan Kare,
Shaheedo Ki Shahadat Yaad Kare,
Jo Kurvaan Ho Gaye Mere Desh Par,
Unhen Sar Jhuka Kar Salaam Kare.
Jay Bhaarat Jay Javaan!!

आओ देश का सम्मान करे,
शहीदो की शहादत याद करे,
जो कुर्वान हो गए मेरे देश पर,
उन्हें सर झुका कर सलाम करे।
जय भारत जय जवान।।

Bharatmata Tumhen Pukare Aana Hi Hoga,
Karz Apne Desh Ka Chukana Hi Hoga,
De Karake Kurbani Apni Jaan Ki,
Tumhe Marna Bhi Hoga Maarna Bhi Hoga.

भारतमाता तुम्हें पुकारे आना ही होगा,
कर्ज अपने देश का चुकाना ही होगा,
दे करके कुर्बानी अपनी जान की,
तुम्हे मरना भी होगा मारना भी होगा।

Mere Mulk Ki Hifazat Hi Mera Farz Hai
Aur Mera Mulk Hi Meri Jaan Hai,
Is Par Kurbaan Hai Mera Sab Kuchh,
Nahi Isse Badhkar Mujhko Apani Jaan Hai.

मेरे मुल्क की हिफाज़त ही मेरा फ़र्ज है
और मेरा मुल्क ही मेरी जान है,
इस पर कुर्बान है मेरा सब कुछ,
नही इससे बढ़कर मुझको अपनी जान है।

Jis Desh Me Pakshpaat Ke Faile Jaal Hote Hain,
Vahaan Hunar Sabke Behaal Hote Hain,
Vo Desh Kabhi Unchai Nahin Pa Sakta,
Jahaan Ke Bazeer Hi Dalaal Hote Hain.

जिस देश में पक्षपात के फैले जाल होते हैं,
वहाँ हुनर सबका बेहाल होते हैं,
वो देश कभी ऊंचाई नहीं पा सकता,
जहाँ के वज़ीर ही दलाल होते हैं।

Teen Rang Ka Nahi Vastr, Ye Dhvaj Desh Ki Shaan Hai,
Har Bhartiy Ke Dilo Ka Svabhimaan Hai,
Yahi Hai Ganga, Yahi Hai Himalay, Yahi Hind Ki Jaan Hai
Aur Teen Rangon Mein Ranga Hua Ye Apna Hindustaan Hai.

तीन रंग का नही वस्त्र, ये ध्वज देश की शान है,
हर भारतीय के दिलो का स्वाभिमान है,
यही है गंगा, यही हैं हिमालय, यही हिन्द की जान है
और तीन रंगों में रंगा हुआ ये अपना हिन्दुस्तान हैं।

Bharat Ko Jo Karna Naman Chhod De,
Keh Do Unhe Wo Mera Vatan Chhod De,
Majhab Pyara He Jise Bharat Nahi,
Wo Iss Ki Panah Me Rehna Chhod De.

भारत को जो करना नमन छोड़ दे,
केह दो उन्हें वो मेरा वतन छोड़ दे,
मजहब प्यारा हे जिसे भारत नहीं,
वो इस की पनाह में रहना छोड़ दे।
जय हिन्द जय भारत।।

Lahoo Vatan Ke Shaheedon Ka Rang Laaya Hai,
Uchhal Raha Hai Zamane Mein Naam-E-Aazadi.

लहू वतन के शहीदों का रंग लाया है,
उछ्ल रहा है ज़माने में नाम-ए-आज़ादी।

Vatan Ki Khaak Zara Ediyaan Ragadne De,
Mujhe Yaqeen Hai Pani Yaheen Se Niklega.

वतन की ख़ाक ज़रा एड़ियां रगड़ने दे,
मुझे यक़ीन है पानी यहीं से निकलेगा।

Dil Se Niklegi Na Mar Kar Bhi Vatan Ki Ulfat
Meri Mitti Se Bhi Ḳhushbu-E-Wafa Aaegi

दिल से निकलेगी न मर कर भी वतन की नफरत,
मेरी मिटटी से भी खुशबू-ए-वफ़ा आयेगी।

Naa Poochho Jamane Ko,
Kya Hamari Kahani Hain,
Hamari Pehchaan To Sirf Ye Hai
Ki Hum Sirf Hindustani Hain.

ना पूछो ज़माने को,
क्या हमारी कहानी हैं,
हमारी पहचान तो सिर्फ ये है,
की हम सिर्फ हिंदुस्तानी हैं।

Har Dil Mein Ye Arman Niklega,
Kisi Ke Raheem To Kisi Ke Raam Niklega,
Magar Unka Seena Cheer Ke Dekha Jaye,
To Usme Hamara Pyara Bharatbarsh Niklega.

हर दिल में ये अरमान निकलेगा,
किसी के रहीम तो किसी के राम निकलेगा,
मगर उनका सीना चीर के देखा जाए,
तो उसमें हमारा प्यारा भारतबर्ष निकलेगा।