ilzaam Shayari in Hindi

Ilzaam shayari in hindi:- welcome to ilzaam shayari in urdu and ilzam shayari in hindi. we have a nice collection of shayari on ilzaam and ilzam shayari images. Hope you will like ilzaam sad shayari and ilzaam shayari in hindi images. If you like it plz share it on social media with your friends. Subscribe to our website www.meridileshayari.in for more upcoming shayaris
ilzaam Shayari in Hindi,ilzaam shayari in urdu, ilzam shayari in hindi, shayari on ilzaam, ilzam shayari images, ilzaam sad shayari, ilzaam shayari in hindi images.
ilzaam Shayari in Hindi
Bewafai Maine Nahin Ki Hai Mujhe Ilzaam Mat Dena,
Mera Suboot Mere Ashq Hain Mera Gawaah Mera Dard Hai .

बेवफाई मैंने नहीं की है मुझे इल्ज़ाम मत देना,
मेरा सुबूत मेरे अश्क हैं मेरा गवाह मेरा दर्द है ।

Khud Na Chhupa Sake Wo Apna Chehra Nakaab Mein,
Bevajah Hamari Aankhon Pe Ilzaam Lag Gaya.

खुद न छुपा सके वो अपना चेहरा नकाब में,
बेवजह हमारी आँखों पे इल्ज़ाम लग गया।

Fhikr Hai Sabko Khud Ko Sahi Saabit Karne Ki,
Jaise Ye Zindgi, Zindagi Nahi, Koi Ilzaam Hai.

फिक्र है सबको खुद को सही साबित करने की,
जैसे ये जिन्दगी, जिन्दगी नही, कोई इल्जाम है।

Koi Iljaam Rah Gaya Ho To Wo Bhi De Do,
Pahle Bhi Ham Bure The, Ab Thode Aur Sahi.

कोई इल्जाम रह गया हो तो वो भी दे दो,
पहले भी हम बुरे थे, अब थोड़े और सही।

Chiraag Jalane Ka Saleeka Seekho Saahab
Havaon Pe Ilzaam Lagane Se Kya Hoga.

चिराग जलाने का सलीका सीखो साहब
हवाओं पे इल्ज़ाम लगाने से क्या होगा।

Udaas Waqt, Udaas Zindagi, Udaas Mausam,
Kitni Cheejo Pe Iljaam Laga Hai Tere Na Hone Se.

उदास वक्त, उदास जिन्दगी, उदास मौसम,
कितनी चीजो पे इल्जाम लगा है तेरे ना होने से।

Har Iljaam Ka Hakdaar Wo Hame Bana Jaate Hain,
Har Khata Ki Saja Wo Hame Suna Jaate Hain,
Ham Har Baar Chup Rah Jaate Hain,
Kyuki Wo Apana Hone Ka Hak Jata Jaate Hain.

हर इल्जाम का हकदार वो हमे बना जाते है,
हर खता कि सजा वो हमे सुना जाते है,
हम हर बार चुप रह जाते है,
क्योंकि वो अपना होने का हक जता जाते है।

Meri Najron Ki Taraf Dekh Jamanen Par Na Ja,
Ishq Maasoom Hai Iljaam Lagaane Par Na Ja.

मेरी नजरों की तरफ देख जमानें पर न जा,
इश्क मासूम है इल्जाम लगाने पर न जा।

Hans Kar Kabool Kya Kar Li Sajaen Maine,
Zamane Ne Dastoor Hi Bana Liya Har Ilzaam Mujh Par Madhne Ka.

हँस कर कबूल क्या कर ली सजाएँ मैंने,
ज़माने ने दस्तूर ही बना लिया हर इलज़ाम मुझ पर मढ़ने का।

Ye Milaavat Ka Daur Hai Janaab Yahaan,
Iljaamaat Lagaye Jaate Hain Taarifon Ke Libas Mein.

ये मिलावट का दौर है जनाब यहाँ,
इल्जामात लगाये जाते हैं तारिफों के लिबास में।

Lafjon Se Itna Aashikana Theek Nahin Hai Zanaab,
Kisi Ke Dil Ke Paar Hue To Iljaam Qatl Ka Lagega.

लफ्जों से इतना आशिकाना ठीक नहीं है ज़नाब,
किसी के दिल के पार हुए तो इल्जाम क़त्ल का लगेगा।

#Bewafa To Wo Khud Thi,
Par Ilzaam Kisi Aur Ko Deti Hai.
Pehle Naam Tha Mera Uske Labon Par,
Ab Wo Naam Kisi Aur Ka Leti Hai.
Kabhi Leti Thi Wada Mujhse Saath Na Chhorne Ka,
Ab Yehi Wada Kisi Aur Se Leti Hai.

#बेवफा तो वो खुद थी,
पर इल्ज़ाम किसी और को देती है.
पहले नाम था मेरा उसके लबों पर,
अब वो नाम किसी और का लेती है
कभी लेती थी वादा मुझसे साथ न छोड़ने का,
अब बही वादा किसी और से लेती है।
Jaan Kar Bhi Wo Mujhe Jaan Na Paye,
Aaj Tak Wo Mujhe Pehchaan Na Paye,
Khud He Kar Li Bewafai Humne,
Taaki Un par Koi Ilzaam Na Aaye.

जान कर भी वो मुझे जान न पाए,
आज तक वो मुझे पहचान न पाए,
खुद ही कर ली बेवफाई हमने,
ताकि उन पर कोई इलज़ाम न आये।

Dil-E-Barbaad Ka Main Tujhe Ilzaam Nahi Deta ...
Haan Apne Lafzon Mein Tere Zurm Jaroor Likhta Hoon,
Lekin Tera Naam Nahi Leta ।

दिल-ए-बर्बाद का मैं तुझे इल्ज़ाम नहीं देता,
हाँ अपने लफ़्ज़ों में तेरे जुर्म जरूर लिखता हूँ,
लेकिन तेरा नाम नहीं लेता।

Mujh Par Ilzaam Har Baar Lagana Theek Nahin,
Wafa Khud Se Nahin Hoti Khafa Ham Par Hote Ho.

मुझ पर इल्जाम हर बार लगाना ठीक नहीं,
वफ़ा खुद से नहीं होती खफा हम पर होते हो।

Har Baar Hum Par,
Ilzaam Laga Dete Ho Mohhabat Ka,
Kabhi Khud Se Pucha Hai,
Ki Itne Haseen Kyu Ho.

हर बार हम पर,
इल्ज़ाम लगा देते हो मोहब्बत का,
कभी खुद से पूछा है,
की इतने हसीन क्यों हो।

Tu Kahin Bhi Rah Tere Sar Pe Iljaam To Hai,
Tere Haathon Ki Lakeeron Mein Mera Naam To Hai,
Mujhe Apna Bana Ya Na Bana Teri Marji,
Par Tu Mere Naam Se Badnaam To Hai.

तू कहीं भी रह तेरे सर पे इल्जाम तो है,
तेरे हाथों की लकीरों में मेरा नाम तो है,
मुझे अपना बना या ना बना तेरी मर्जी,
पर तू मेरे नाम से बदनाम तो है।

Teri Aankhon Se Door Jaane Ke Bhi Liye Taiyar To The Ham,
Phir Is Tarah, Nazren Ghumane Ki Jarurat Kya Thi,
Tere Ik Ishare Par Ham Iljaam Bhi Apne Sar Le Lete,
Phir Bevajah, Jhoothe Iljaam Lagane Ki Jarurat Kya Thi.

तेरी आँखों से दूर जाने के भी लिए तैयार तो थे हम,
फिर इस तरह, नज़रें घुमाने की जरूरत क्या थी,
तेरे इक इशारे पर हम इल्जाम भी अपने सर ले लेते,
फिर बेवजह, झूठे इल्जाम लगाने की जरुरत क्या थी।

Galtiyon Se Anjaan Tu Bhi Nahi, Main Bhi Nahi,
Dono Insaan Hain, Khuda Tu Bhi Nahi, Main Bhi Nahi,
Tu Mujhe Aur Main Tujhe Ilzaam Deta Hun Magar,
Apne Andar Jhankta Tu Bhi Nahi, Main Bhi Nahi।

गलतियों से अंजान तू भी नहीं, मैं भी नहीं
दोनों इंसान हैं, खुदा तू भी नहीं, मैं भी नहीं,
तू मुझे और मैं तुझे इल्ज़ाम देता हूँ मगर,
अपने अंदर झाँकता तू भी नहीं, मैं भी नही।

Kismaten Badal Jaati Hai,
Jab Zindagi Ka Koi Maksad Ho,
Varna Zindagi To Kat Hi Jaati Hai,
Takdeer Ko Iljaam Dete Dete.

किस्मतें बदल जाती है,
जब ज़िन्दगी का कोई मकसद हो,
वरना ज़िन्दगी तो कट ही जाती है,
तकदीर को इल्जाम देते देते।

Tumne Hi Laga Diya Ilzaam-E-Bewafai,
Adalat Bhi Teri Thi Gavaah Bhi Tu Hi Thi.

तूमने ही लगा दिया इल्ज़ाम-ए-बेवफ़ाई,
अदालत भी तेरी थी गवाह भी तू ही थी।

Duniya Ko Meri Hakeekat Ka Pata Kuchh Bhi Nahin,
Ilzaam Hazaro Hain Par Khata Kuchh Bhi Nahin.

दुनिया को मेरी हकीकत का पता कुछ भी नहीं,
इल्जाम हजारो हैं पर खता कुछ भी नहीं।

You Might Also Like

0 Comments