Shayari On Maut And Zindagi

Shayari On Maut And Zindagi:- welcome to maut shayari on our website www.meridileshayari.in . we have a good collection on maut ki shayari and maut shayari in hindi. Hope you will like shayari on maut on our site. If you like it please share it on all social media likefacebook,whatsapp,etc
Shayari On Maut And Zindagi, maut shayari, shayari on maut, maut ki shayari, maut shayari in hindi, mast romantic shayari.
Shayari On Maut And Zindagi

Kisi Din Teri Najron Se Door Ho Jayenge Hum,
Dur Fizaon Mai Kahin Kho Jayenge Hum,
Meri Yaadon Se Lipat Kar Rone Aaoge Tum,
Jab Zameen Ko Odh Kar So Jayenge Hum.
किसी दिन तेरी नजरों से दूर हो जायेंगे हम,
दूर फिजाओं में कहीं खो जायेंगे हम,
मेरी यादों से लिपट कर रोने लगोगे,
जब ज़मीन को ओढ़ कर सो जायेंगे हम।
Main Ab Supurde-Khaak Hun Mujhko Jalana Chhod De,
Qabr Par Meri Tu Uske Saath Aana Chhod De,
Ho Sake Gar Tu Khushi Se Ashq Peena Seekh Le,
Ya Tu Aankhon Mein Apni Kajal Lagana Chhod De.
मैं अब सुपुर्दे ख़ाक हूँ मुझको जलाना छोड़ दे,
कब्र पर मेरी तू उसके साथ आना छोड़ दे,
हो सके गर तू खुशी से अश्क पीना सीख ले,
या तू आँखों में अपनी काजल लगाना छोड़ दे।
Ab Maut Se Keh Do Narajgi Khatm Kar Le,
Woh Badal Gaya Hai Jiske Liye Hum Zinda The.
अब मौत से कह दो कि नाराज़गी खत्म कर ले,
वो बदल गया है जिसके लिए हम ज़िंदा थे​।
Ai Maut Tujhe Ek Din Aana Hai Bhaley,
Aa Jati Shab-e-Furqat Mein Toh Ehsaan Hota.
ऐ मौत तुझे एक दिन आना है भले,
आ जाती शबे फुरकत में तो अहसां होता।
Kahani Khatm Ho Toh Kuchh Aise Khatm Ho,
Ke Log Rone Lage Taaliya Bajate Bajate.
कहानी खत्म हो तो कुछ ऐसे खत्म हो,
कि लोग रोने लगे तालियाँ बजाते बजाते।
Read Romantic Shayari in Hindi
Maut-o-Hasti Ki KashmKash Mein Kati Tamaam Umr,
Gam Ne Jeene Na Diya Shauq Ne Marne Na Diya.
मौत-ओ-हस्ती की कशमकश में कटी उम्र तमाम,
गम ने जीने न दिया शौक ने मरने न दिया।
Khabar SunKar Marne Ki Wo Bole Raqeebo Se,
Khuda Bakhse Bahut Si Khoobiyan Thi Marne Wale Mein.
खबर सुनकर मरने की वो बोले रक़ीबों से,
खुदा बख्शे बहुत-सी खूबियां थीं मरने वाले में।
Jala Hai Jism Toh Dil Bhi Jal Gaya Hoga,
Kuredte Ho Jo Ab Raakh Justjoo Kya Hai.
जला है जिस्म तो दिल भी जल गया होगा,
कुरेदते तो जो अब राख जुस्तजू क्या है।
Uss Se Bichhde Toh Maloom Hua Maut Bhi Koi Cheej Hai,
Zindagi Woh Thi Jo Uski Mahfil Mein Gujaar Aaye.
उससे बिछड़े तो मालूम हुआ मौत भी कोई चीज़ है,
ज़िन्दगी वो थी जो उसकी महफ़िल में गुज़ार आए।
Teri Hi Justjoo Mein Ji Lee Ek Zindagi Maine,
Gale Mujhko Lagakar Khatm Saanso Ka Safar Kar De.
तेरी ही जुस्तजू में जी लिया इक ज़िंदगी मैंने,
गले मुझको लगाकर खत्म साँसों का सफ़र कर दे।
Baad-e-Fanaa Fizool Hai Naamo-Nishaan Ki Fikr,
Jab Hum Nahi Rahe Toh Rahega Mazaar Kya.
बादे-फना फिजूल है नामोनिशां की फिक्र,
जब हम नहीं रहे तो रहेगा मजार क्या?
Meri Zindagi Toh Gujri Tere Hijr Ke Sahare,
Meri Maut Ko Bhi Koi Na Koi Bahana Chahiye.
मेरी ज़िंदगी तो गुजरी तेरे हिज्र के सहारे,
मेरी मौत को भी कोई बहाना चाहिए।
Le Raha Hai Tu Khudaya Imtehaan Dar Imtehaan,
Par Syaahi Zindagi Ki Khatm Kyun Hoti Nahi.
ले रहा है तू खुदाया इम्तेहाँ दर इम्तेहाँ,
पर स्याही ज़िंदगी की खत्म क्यूँ होती नहीं।
Tasawwar Mein Na Jaane Katib-e-Taqdir Kya Tha,
Mera Anjaam Likha Hai Mere Aagaaz Se Pahle.
तसव्वर में न जाने कातिबे-तकदीर क्या था,
मेरा अंजाम लिखा है मेरे आगाज से पहले।
Chale Aao Musafir Aakhiri Saansein Bachi Hain Kuchh,
Tumhari Deed Ho Jaati Toh Khul Jaati Meri Aankhein.
चले आओ मुसाफिर आख़िरी साँसें बची हैं कुछ,
तुम्हारी दीद हो जाती तो खुल जातीं मेरे आँखें।
Yun Toh Haadson Mein Gujri Hai Humari Zindgi,
Haadsa Yeh Bhi Kam Nahi Ke Humein Maut Na Mili.
यूँ तो हादसों में गुजरी है हमारी ज़िंदगी,
हादसा ये भी कम नहीं कि हमें मौत ना मिली।
Ai Maut Thhahar Ja Tu Jara Mujhe Yaar Ka Intezar Hai,
Aayega Woh Jarur Agar Use Mujhse Sachcha Pyar Hai,
ऐ मौत ठहर जा तू जरा मुझे यार का इंतज़ार है,
आएगा वो जरूर अगर उसे मुझसे सच्चा प्यार है।
Sanson Ke Silsile Ko Na Do Zindagi Ka Naam,
Jeene Ke Bawajood Bhi Mar Jaate Hain Kuchh Log.
साँसों के सिलसिले को न दो ज़िंदगी का नाम,
जीने के बावजूद भी मर जाते हैं कुछ लोग।
Kis Se Mahroom-e-Kismat Ki Shikayat Keeje,
Humne Chaha Tha Ke Mar Jaayein So Woh Bhi Nahi Hua.
किससे महरूम-ए-किस्मत की शिकायत कीजे,
हमने चाहा था कि मर जायें सो वो भी नहीं हुआ।
Agar Kal Fursat Na Mili Toh Kya Hoga,
Itni Mohlat Na Mili Toh Kya Hoga,
Roj Kahte Ho Kal Milenge Kal Milenge,
Kal Meri Aankh Na Khili Toh Kya Hoga.
अगर कल फुर्सत न मिली तो क्या होगा,
इतनी मोहलत न मिली तो क्या होगा,
रोज़ कहते हो कल मिलेंगे कल मिलेंगे,
कल मेरी आँखे न खुली तो क्या होगा।
Zindagi Baithi Thi Apne Husn Pe Phooli Hui,
Maut Ne Aate Hi Saara Rang Feeka Kar Diya.
ज़िंदगी बैठी थी अपने हुस्न पे फूली हुई,
मौत ने आते ही सारा रंग फीका कर दिया।
Do Ghaz Zamin Sahi Meri Milkiyat Toh Hai,
Ai Maut Tu Ne Mujh Ko Zamindar Kar Diya.
दो गज़ ज़मीन सही मेरी मिल्कियत तो है,
ऐ मौत तूने मुझको ज़मींदार कर दिया।
Barh Jaati Hai Meri Maut Ki Tareekh Khud-Ba-Khud Aage,
Jab Bhi Koi Teri Salamati Ki Khabar Le Aata Hai.
बढ़ जाती है मेरी मौत की तारीख खुद ब खुद आगे,
जब भी कोई तेरी सलामती की खबर ले आता है।
Kitni Aziyat Hai Iss Ehsaas Mein,
Ke Mujhe Tujhse Mile Bina Hi Mar Jana Hai.
कितनी अज़ीयत है इस एहसास में,
कि मुझे तुझसे मिले बिना ही मर जाना है।
Tamam Umar Jo Ki Humse Be-Rukhi Sab Ne,
Kafan Mein Hum Bhi Ajeezon Se Munh Chhupa Ke Chale.
तमाम उम्र जो हमसे बेरुखी की सबने,
कफ़न में हम भी अजीज़ों से मुँह छुपा के चले।
Lambi Umar Ki Duaa Mere Liye Na Maang,
Aisa Na Ho Ke Tum Bhi Chhod Do Aur Maut Bhi Na Aaye.
लम्बी उम्र की दुआ मेरे लिए न माँग,
ऐसा न हो कि तुम भी छोड़ दो और मौत भी न आये।
Wahi Tafreeq Ka Aalam Hai Baad-e-Marg Bhi Yaaro,
Na Katbe Ek Jaise Hain, Na Qabrein Ek Jaisi Hain.
वही तफरीक का आलम है बाद-ए-मर्ग भी यारों,
न कतबे एक जैसे हैं न कब्रें एक जैसी हैं।
Har Ek Saans Ka Tu Ehtraam Kar Varna,
Wo Jab Chahe, Jahan Chahe, Aakhiri Kar De.
हर एक साँस का तू एहतराम कर वरना,
वो जब भी चाहे, जहाँ चाहे, आखिरी कर दे।
Mujhe Rulakar Sona Toh Tumhari Aadat Ban Gayi Hai,
Gar Meri Aankh Na Khuli Toh Tum Tadapoge Bahut.
मुझे रुला कर सोना तो तुम्हारी आदत बन गई है,
गर मेरी आँख न खुली तो तुम तडपोगे बहुत।
Janaza Rok Kar Mera Woh Iss Andaaj Se Bole,
Gali Humne Kahi Thi Tum Toh Duniya Chhode Jate Ho.
जनाजा रोक कर मेरा वह इस अंदाज से बोले,
गली हमने कही थी तुम तो दुनिया छोड़े जाते हो।
Iss Marhale Ko Bhi Maut Hi Kehte Hain,
Jahan Ek Pal Mein Toot Jaye Umr Bhar Ka Sath.
इस मरहले को भी मौत ही कहते हैं,
जहाँ एक पल में टूट जाये उम्र भर का साथ।
Azal Ko Dosh Dein, Taqdeer Ko Royein, Mujhe Kosein,
Mere Qatil Ka Charcha Kyun Hai Mere Sogwaaron Mein.
अजल को दोष दें, तकदीर को रोयें, मुझे कोसें,
मेरे कातिल का चर्चा क्यों है मेरे सोगवारों में।
Ai Hijr Waqt Tal Nahi Sakta Hai Maut Ka,
Lekin Ye Dekhna Hai Ke Mitti Kahan Ki Hai.
ऐ हिज्र वक़्त टल नहीं सकता है मौत का,
लेकिन ये देखना है कि मिट्टी कहाँ की है।
Ai Azal Tujhse Yeh Kaisi Nadaani Hui,
Phool Woh Toda Chaman Bhar Mein Veerani Hui.
ऐ अजल तुझसे यह कैसी नादानी हुई,
फूल वो तोड़ा चमन भर में वीरानी हुई।
Aakhiri Deedar Kar Lo Khol Kar Mera Kafan,
Ab Na Sharmaao Ke Chashm-e-Muntzir Be-Noor Hai.
आखिरी दीदार कर लो खोल कर मेरा कफ़न,
अब ना शरमाओ कि चश्म-ए-मुन्तजिर बेनूर है।
Jara Chup-Chap Toh Baitho Ke Dum Aaram Se Nikle,
Idhar Hum Hichki Lete Hain Udhar Tum Rone Lagte Ho.
जरा चुपचाप तो बैठो कि दम आराम से निकले,
इधर हम हिचकी लेते हैं उधर तुम रोने लगते हो।
Tum Samjhate Ho Ke Jeene Ki Talab Hai Mujh Ko,
Main Toh Iss Aas Mein Zinda Hun Ke Marna Kab Hai.
तुम समझते हो कि जीने की तलब है मुझको,
मैं तो इस आस में ज़िंदा हूँ कि मरना कब है।
Tamaam Gile-Shiqwe Bhula Kar Soya Karo Yaaro,
Suna Hai Maut Kisi Ko Koi Mauka Nahi Deti.
तमाम गिले-शिकवे भुला कर सोया करो यारो,
सुना है मौत किसी को कोई मौका नहीं देती।
Tumhara DabDabaa Khali Tumhari Zindagi Tak Hai,
Kisi Ki Qabr Ke Andar JameenDari Nahi Chalti.
तुम्हारा दबदबा खाली तुम्हारी ज़िंदगी तक है,
किसी की क़ब्र के अन्दर जमींदारी नहीं चलती।
Mil Jayenge Kuchh Humari Bhi Tareef Karne Wale,
Koi Humaari Maut Ki Afwaah Toh Udaao Yaaro.
मिल जाएँगे कुछ हमारी भी तारीफ़ करने वाले,
कोई हमारी मौत की अफवाह तो उड़ाओ यारों।
Meri Zindagi Toh Gujri Tere Hijr Ke Sahare,
Meri Maut Ko Bhi Pyare Koi Chahiye Bahana.
मेरी ज़िंदगी तो गुज़री तेरे हिज्र के सहारे,
मेरी मौत को भी प्यारे कोई चाहिए बहाना।

You Might Also Like

0 Comments