Suvichar - Shayari By Meridileshayari

A suvichar is a powerful thought which is said by great peoples and great persons. People always look for suvichar for hindi and suvichar in hindi is a good great to stay motivated that's why people send suvichar good morning to their friends and family. For more suvichar Hindi
and suvichar in English subscribe our website with email - Shayari By Meridileshayari

Suvichar
Suvichar,suvichar images, suvichar for hindi, suvichar in hindi, suvichar hindi, suvichar good morning, suvichar in english.
Suvichar - Shayari By Meridileshayari
ज़िन्दगी में कुछ ऐसा काम करो की, लोग आपका नाम फेसबुक पर नहीं, गूगल पर सर्च करें।

रिश्तों में मुलाक़ात और मेल-जोल बड़ा ही जरुरी होता है, नहीं तो रोप कर भूल जाने से पौधे भी सूख जाते हैं।

किसी दुसरे मनुष्य को सदगुणों के आधार पर आगे रखना व उसको इज्ज़त देना एक बुद्धिमान व समाजिक व्यक्तिव की पहचान होती है।

आँधियों ने बड़ा ऊँचा उड़ाया धूल को, पर दो बूँद बारिश ने फिर ज़मीन में मिला दिया।

यदि आप सौ लोगों की सहायता नहीं कर सकते तो एक आदमी की ही सहायता आपको उसके दिल में महान बना देगी।

जीवन में सुख और दुःख बराबर-बराबर मात्रा में मिलते हैं, पहले सुख के आने का मतलब है, के निकट भविष्य में दुःख आना तय है, अगर वर्तमान समय दुखों में बीत रहा हो तो, समझो के सुख निकट हैं।

जीवन में सबसे अधिक ख़ुशी वह काम करने में है, जिसे लोग कहते हों, के तुम नहीं कर सकते।

असफलता, सफलता के लिए एक उर्वरक के समान है।

दूसरों के दोष न देखो, अपने अंदर के दोष देखो, तो निष्चय ही पूर्णतः निर्दोष बन जाओगे।

व्यर्थ कार्य जीवन को थका देता है जबकि रचनात्मक कार्य सुख और तेजस्विता बढ़ा देता है, इसीलिए किस भी कार्य में रचनात्मता बहुत महत्वपूर्ण होती है।

ज़िन्दगी मुसीबतों से भरी है, और बेवकूफ़ी के साथ तो और भी बुरी हो जाती है, इसीलिए सोच-समझ कर चलो।

ज्यादातर रिश्ते सिर्फ इसलिए ख़त्म हो जाते है, क्यूँकि एक ठीक से समझा नहीं पाता दूसरा ठीक से समझ नहीं पाता…

परंतु अधिक उर्वरक का प्रयोग उपज को समाप्त कर देता है।

ज़िद्द एक ऐसी दीवार है जो तोड़े नही टूटती लेकिन इस से रिश्ते जरूर टूट जातें हैं।

दुनिया विरोध तो भी तुम डरो मत क्योंकि जिस पेड़ पर फल लगते हैं दुनिया उसे ही पत्थर मारती है।

आप जीवन में कितने भी ऊँचे क्यों न उठ जाएं, पर अपनी ग़रीबी और कठिनाइयों के दिनों को, कभी मत भूलिये।

मैंने एक हजार के नोट से कहा की तुम एक कागज़ के टुकड़े भर हो, और उस पर बैठा गाँधी मुस्कुराया, और बोला बिल्कुल ये एक कागज़ का टुकड़ा है, लेकिन इसने आज तक कभी कूड़ादान नहीं देखा।

ऊँचे-ऊँचे मकान और दुकान बनाना बुरी बात नहीं मगर अपने ऊँचे मकान और दुकानों को देख कर अभिमान पाल लेना घोर बुराई है।

ईश्वर की स्मृति से ही हम सर्वगुण सम्पन्न हो सकते है और सदगति को प्राप्त कर सकते है, प्रभु के सिमरण से ही आत्मा को परमात्मा से मिलाया जा सकता है, और ये मिलन ही सर्वश्रेष्ठ मिलन है।

अपने स्वभाव को सरल बनाआगे तो समय कभी व्यर्थ नही जायेगा।

एक स्वस्थ मनुष्य वही है जो अपना शारीरिक और मानसिक संतुलन बनाये रखे और समाज और मानवता के प्रति सेवा भाव बनाये रखे।

छोटी छोटी बुराइयों को अपने पास न आने दें, क्योंकि बड़ी बुराइयां इनके पीछे पीछे अपने आप चली आती हैं।

दुनिया में लोग दिखावे से आकर्षित और भर्मित होकर दुनियावी माया जाल में फंस जाते हैं, इसीलिए दिखावटी लोगों और दिखावे से दूर ही रहना चाहिए।

माँ की तकलीफों को कभी नज़रअंदाज़ नहीं करना, चाहिए, क्योंकी जिन की माँ बिछड़ जाती है उन्हे रेशमी बिस्तर पर भी नींद नहीं आती।

You Might Also Like

0 Comments